0
आप को देख कर देखता रह गया
क्या कहुँ और कहने को क्या रह गया

आते आते मेरा नाम सा रह गया
उसके होठों पे कुछ कांपता रह गया

वो मेरे सामने ही गया और मैं
रास्ते की त्तरह देखता रह गया

झूठ वाले कहीं से कहीं बढ गये
और मैं था के सच बोलता रह गया

आंधियों के इरादे तो अच्छे ना थे
ये दिया कैसे जलता रह गया - वसीम बरेलवी

[jwplayer config="custome player" mediaid="402"]

Post a Comment Blogger

 
Top