4
जिंदगी उनकी चाह में गुजरी
मुस्तकिल दर्दो आह में गुजरी

रहमतों से निबाह में गुजरी
उम्र सारी गुनाह में गुजरी

हाय, वह जिंदगी कि इकसाअत
जो तेरी बारगाह में गुजरी

सबकी नजरो में सर बुलन्द रहे
जब तक उनकी निगाह में गुजरी

मै एक रहरवे-मुहब्बत हु
जिसकी मंजिल भी राह में गुजरी

एक ख़ुशी हमने दिल से चाही थी
वह भी गम की पनाह में गुजरी

जिन्दगी अपनी ऐ 'शकील' अब तक
तल्खी-ए-रस्मो-राह में गुजरी- शकील बदायुनी

मायने
मुस्तकिल=बराबर, इकसाअत=घडी, बारगाह=दरबार, रहरवे-मुहब्बत=प्रणय-राही, तल्खी-ए-रस्मो-राह=रस्मो-रिवाज की कडवाहट

Roman

zindgi unki chah me gujri
mustkil dardo aah me gujri

rahmato se nibah me gujri
umra sari gunah me gujri

hay, wah zindgi ki iksaat
jo teri bargah me gujri

sabki nazaro me sar buland rahe
jab rak unki nigah me gujri

mai ek rahrave-muhbbat hu
jiski manjil bhi raah me gujri

ek khushi hamne dil se chahi thi
wah bhi gam ki panah me gujri

jindgi apni e shakeel ab tak
talkhi-e-rasmo-raah me gujri - Shakeel Badayuni

Post a Comment Blogger

  1. बेहतरीन ग़ज़ल पढ़वाने का शुक्रिया।

    ReplyDelete
  2. Thanks a lot for assigning a seer nazm of respected badayuni ji .

    ReplyDelete
  3. लाज़वाब गज़ल पढवाने के लिये आभार..

    ReplyDelete

 
Top