0
कभी ख़ुशी से ख़ुशी की तरफ नहीं देखा
तुम्हारे बाद किसी की तरफ नहीं देखा

ये सोच कर के तेरा इंतजार लाजिम है
तमाम उम्र घडी की तरफ नहीं देखा

यहाँ तो जो भी है आबे-रवा का आशिक है
किसी ने खुश्क नदी की तरफ नहीं देखा

वो जिसके वास्ते परदेस जा रहा हु मै
बिछडते वक़्त उसी की तरफ नहीं देखा

न रोक ले हमें रोता हुआ कोई चेहरा
चले तो मुड़ के गली की तरफ नहीं देखा

बिछडते वक़्त बहुत मुतमइन थे हम दोनों
किसी ने मुड़ के किसी की तरफ नहीं देखा

रवीश बुजुर्गो की शामिल है मेरी घुट्टी में
जरुरतन भी सखी की तरफ नहीं देखा-मुनव्वर राना
मायने
लाजिम=जरुरी, आबे-रवा=बहता पानी, मुतमइन=संतुष्ट, रवीश=आचरण, सखी=दानदाता
Listen it


Roman

kabhi khushi se khushi ki taraf nahi dekha
tumhare bad kisi ki taraf nahi dekha

ye soch kar ke tera intejar lazim hai
tamam umra ghadi ki taraf nahi dekha

yaha to jo bhi hai aabe-rawa ka aashiq hai
kisi ne khushq nadi ki taraf nahi dekha

wo jiske waste pardes ja raha hu mai
bichhdate waqt usi ki taraf nahi dekha

n rok le hame rota hua ko chehra
chale to mud ke kisi ki taraf nahi dekha

ravish bujurgo ki shamil hai meri ghutti me
jaruratan bhi sakhi ki taraf nahi dekha- Munwwar Rana

Post a Comment Blogger

 
Top