3
प्यार का पहला ख़त लिखने में वक़्त तो लगता है,
नये परिन्दों को उड़ने में वक़्त तो लगता है |

जिस्म की बात नहीं थी उनके दिल तक जाना था,
लम्बी दूरी तय करने में वक़्त तो लगता है |

गाँठ अगर पड़ जाए तो फिर रिश्ते हों या डोरी,
लाख करें कोशिश खुलने में वक़्त तो लगता है |

हमने इलाज-ए-ज़ख़्म-ए-दिल तो ढूँढ़ लिया है,
गहरे ज़ख़्मों को भरने में वक़्त तो लगता है।
                                                     -हस्तीमल हस्ती

क्या आपने इस ब्लॉग(जखीरा) को सब्सक्राइब किया है अगर नहीं तो इसे फीड या ई-मेल के द्वारा सब्सक्राइब करना न भूले |

Post a Comment

  1. सच कहा हर बिगडी चीज़ को संवरने मे वक्त तो लगता है

    ReplyDelete
  2. @वन्दनाजी धन्यवाद टिप्पणी देने के लिए वैसे
    हमने इलाज-ए-जख्म-ए-दिल तो ढूढ लिया है
    गहरे जख्मो को भरने में वक्त तो लगता है
    हस्ती साहब सच्चाई इस ग़ज़ल में कह गए |

    ReplyDelete
  3. गांठ अगर पद जाये तो फिर रिश्ते हो या डोरी
    लाख करे कोशिश खुलने में वक्त तो लगता है .....

    वाह एक दम सही कहा ...वक्त तो लगता है

    ReplyDelete

 
Top