0
ये तेरा घर ये मेरा घर, किसी को देखना हो गर
तो पहले आके माँग ले, मेरी नज़र तेरी नज़र
ये घर बहुत हसीन है -2

न बादलों की छाँव में, न चाँदनी के गाँव में
न फूल जैसे रास्ते, बने हैं इसके वास्ते
मगर ये घर अजीब है, ज़मीन के क़रीब है
ये ईँट पत्थरों का घर, हमारी हसरतों का घर

जो चाँदनी नहीं तो क्या, ये रोशनी है प्यार की
दिलों के फूल खिल गये, तो फ़िक्र क्या बहार की
हमारे घर ना आयेगी, कभी ख़ुशी उधार की
हमारी राहतों का घर, हमारी चाहतों का घर

यहाँ महक वफ़ाओं की है, क़हक़हों के रंग है
ये घर तुम्हारा ख़्वाब है, ये घर मेरी उमंग है
न आरज़ू पे क़ैद है, न हौसले पर जंग है - जावेद अख्तर جاوید اختر

Roman

Ye tera ghar ye mera ghar, kisi ko dekhna ho gar
to pahle aa ke mang le, teri nazar meri nzar
ye ghar bahut haseen hai- 2

na badlo ki chhav me, n chandni ke gaanv me
n phool jaise raste, bane hai iske waste
magar ye ghar ajib hai, zameen ke karib hai
ye it pattharo ka ghar, hamari hasrato ka ghar

jo chandni nahi to kya, ye roshni hai pyar ki
dino ke phool khil gaye, to fikr kya bahar ki
hamare ghar na aayegi, kabhi khushi udhar ki
hamari rahto ka ghar, hamari chahto ka ghar

yaha mahak wafao ki hai, kahakho ke rang hai
ye ghar tumhara khwab hai, ye ghar meri umang hai
na aarzoo pe kaid hai, n houslo par jang hai- Javed Akhtar

यह गीत साथ -साथ फिल्म में लिया गया है और फारुख शैख़ और दीप्ती नवल पर फिल्माया गया है



Post a Comment Blogger

 
Top