1
मायूस तो हू वायदे से तेरे, कुछ आस नहीं कुछ आस भी है
मै अपने ख्यालो के सदके, तू पास नहीं और पास भी है

दिल ने ख़ुशी मांगी थी मगर, जो तुने दिया अच्छा ही दिया
जिस ग़म को ताल्लुक हो तुझसे वह रास नहीं और रास भी है

पलकों पे लरजते अश्को में तस्वीर झलकती है तेरी
दीदार की प्यासी आँखों को, अब प्यास नहीं और प्यास भी है - साहिर लुधियानवी

Roman

Mayus to hu waydo se tere, kuch aas nahi kuch aas bhi hai
mai apne khayalo ke sadke, tu paas nahi aur paas bhi hai

dil ne khushi mangi thi magar, jo tune diya achcha hi diya
jis gham ko talluk ho tujhse wah aas nahi aur raas bhi hai

palko pe larzate ashko me tasweer jhalakti hai teri
deedar ki pyasi aankho ko, ab pyas nahi aur pyas bhi hai - Sahir Ludhiyanvi

Post a Comment Blogger

  1. साहिर जी की शायरी पढवाने के लिये धन्यवाद। लाजवाब गज़ल।

    ReplyDelete

 
Top