0
ख़ामोशी कह रही है कान में क्या
आ रहा है मेरे गुमान में क्या

अब मुझे कोई टोकता भी नहीं
यही होता है खानदान मे क्या

बोलते क्यों नहीं मेरे हक में
आबले पड़ गए जुबान में क्या

मेरी हर बात बेअसर ही रही
नुस्ख है कुछ मेरे बयान में क्या

वो मिले तो ये पूछना है मुझे
अब भी हू मै तेरे अमान में क्या

शाम ही से दुकान-ए-दीद है बंद
नहीं नुकसान तक दुकान में क्या

यु जो ताकता है आसमान को तू
कोई रहता है आसमान में क्या

ये मुझे चैन क्यों नहीं पड़ता
एक ही शख्स था जहान में क्या- जाँन एलिया

Roman

khamoshi kah rahi hai kaan me kya
aa raha hai mere gumaan me kya

ab mujhe koi tokta bhi nahi
yahi hota hai khandan me kya

bolte kyo nahi mere haq me
aable pad gaye zubaan me kya

meri har baat beasar hi rahi
nuskh hai kuch mere bayaan me kya

wo mile to ye puchhna hai mujhe
ab bhi hun tere amaan me kya

shaam hi se dukaan-e-deed hai band
nahi nuksan tak dukaan me kya

yun jo takta hai aasmaan ko tu
koi rahta hai aasmaan me kya

ye mujhe chain kyo nahi padta
ek hi shakhs tha jahaan me kya - Jaun Elia / Jon Elia

Post a Comment

 
Top