0


आइना देख  अपना सा मुह लेके रह गए

साहब को दिल न देने पे कितना गुरुर था

कासिद की अपने हाथ से गर्दन न मारिए

उसकी खता नहीं है ये मेरा कुसूर था

मिर्ज़ा ग़ालिब के लेखो से खुद को अपडेट रखने के लिए क्या आपने ब्लॉग को सब्सक्राइब किया अगर नहीं तो इसे फीड या ई-मेल के जरिये सब्सक्राइब कीजिये |


Post a Comment

 
Top