1
ये जिन्दगी आज जो तुम्हारे
बदन की छोटी बड़ी नसों में मचल रही है
तुम्हारे पैरो से चल रही है
तुम्हारी आवाज में गले से निकल रही है
तुम्हारे लफ्जो में ढल रही है
ये जिन्दगी न जाने कितनी सदियों से
यु ही शक्ले बदल रही है
बदलती शक्लो, बदलते जिस्मो में
चलता-फिरता ये एक शरारा
जो इस घडी नाम है तुम्हारा
इसी से सारी चहल-पहल है
इसी से रोशन है हर नजारा
सितारे तोड़ो या घर बसो
कलम उठाओ या सर झुकाओ
तुम्हारी आँखों की रौशनी तक
है खेल सारा
ये खेल होगा नहीं दोबारा
ये खेल होगा नहीं दोबारा- निदा फ़ाज़ली

Roman

ye zindigi aaj jo tumhare
badan ki choti badi naso me machal rahi hai
tumhare pairo me chal rahi hai
tumhari awaz me gale se nikal rahi hai
tumhare lafzo me ghal rahi hai
ye zindgi n jane kitni sadiyo se
yu hi shakle badal rahi hai
badlati shaklo, badlate jismo me
chalta-firta ye ek sharara
jo is ghadi naam hai tumhara
isi se sari chahal pahal hai
isi se roshan hai har najara
sitare todo ya ghar basao
kalam uthao ya sar jhukao
tumhari aankho ki roshni tak
hai khel sara
ye khel hoga nahi dobara
ye khel hoga nahi dobara - Nida Fazli

Post a Comment Blogger

  1. janaab Nida Faazli sahab ki
    ye nazm padh kar
    ek ajab-sa sukoon haasil huaa ...
    shukriyaa qubool farmaaeiN .

    ReplyDelete

 
Top