0
जो लोग जानबूझ के नादान बन गए
मेरा ख्याल है की वो इंसान बन गए

हँसते है हमको देख के अरबाबे-आगही
हम आपके मिजाज की पहचान बन गए

मझधार तक पहुचना तो हिम्मत की बात थी
साहिल के आसपास ही तूफान बन गए

इंसानियत की बात तो इतनी है शैख़ जी
बदकिस्मती से आप भी इंसान बन गए

कांटे बहुत थे दामने-फितरत में ए अदम
कुछ फुल और कुछ मेरे अरमान बन गए - अब्दुल हमीद अदम
मायने
अरबाबे-आगही=बुद्धिजीवी, जानकार, शैख्जी=जो भला आदमी होने का दिखावा करे, फितरत=प्रकृति

Roman

jo log janbujh ke nadan ban gaye
mera khyal hai ki wo insan ban gaye

haste hai hamko dekh ke arbabe-aaghi
ham aapke mizaj ki pahchan ban gaye

majhdar tak pahuchna to himmat ki bat thi
sahil ke aaspas hi tufan ban gaye

insaniyat ki baat to itni hai shaikh ji
badkismati se aap bhi insaan ban gaye

kante bahut the damne-fitrat me e adam
kuch phool aur kuch mere armaan ban gaye - Abdul Hameed Adam

Post a Comment Blogger

 
Top