0
रूखो के चंद लबो के गुलाब मांगे है
बदन की प्यास बदन की शराब मांगे है

मै कितने लम्हे न जाने कहा गवा आया
तेरी निगाह तो सारा हिसाब मांगे है

मै किस से पूछने जाऊ की आज हर कोई
मेरे सवाल का मुझ से जवाब मांगे है

दिले तबाह का ये हौसला भी क्या कम है
हरेक दर्द से जीने की ताब मांगे है

जो इजतराब बजाहिर सुकून लगता है
हरेक शेर वही इजतराब मांगे है- जाँ निसार अख्तर
मायने
रुख=चेहरा, ताब=शक्ति, इज़तराब=व्याकुलता

Roman
rukho ke chand labo ke gulab mange hai
badan ki pyas badan ki sharab mange hai

mai kitne lamhe n jaane kaha gawa aaya
teri nigaah to sara hisab mange hai

mai kis se puchne jau ki aaj har koi
mere sawal ka mujh se jawab mange hai

dile tabah ka ye housla bhi kya kam hai
har ek dard se jeene ki taab mange hai

jo iztrab bjahir sukun lagta hai
har ek sher wahi iztrab mange hai - Jan Nisar Akhtar / Jaan Nisar Akhtar 
jaan nisar akhtar shayari, nisar akhtar shayari, jaan nisar akhtar poetry

Post a Comment Blogger

 
Top