0
नील गगन में तैर रहा है, उजला-उजला चाँद
किन आँखों से देखा जाए, चंचल चेहरे जैसा चाँद

मुन्नी की भोली बातो-सी चटकी तारो की कलियाँ
पप्पू की खामौशी शरारत-सा छुप-छुप कर उभरा चाँद

परदेसी सुनी आँखों में, शोले से लहराते है
भाभी की छेड़ो-से बादल, आप की चुटकी-सा चाँद

तुम भी लिखना, तुमने उस शब् कितनी बार पिया पानी
तुमने भी तो छज्जे ऊपर देखा होगा पूरा चाँद - निदा फ़ाज़ली

Roman
 
neel gagan me tair rha hai, ujla ujla chaand
kin aankho se dekha jaye, chanchal chehre jaisa chand

munni  ki bholi baato-si chatki taaro ki kaliya
pappu ki khamoshi shararat-sa chup-chup kar ubhara chand

pardesi suni aankho me, shole se lahrate hai
bhabhi ki chhedo se baadal, aap ki chutki sa chaand

tum bhi likhan, tumne us shab kitni baar oiya paani
tumne bhi to chhajje upar dekha hoga pura chaand - Nida Fazli

Post a Comment Blogger

 
Top