0
koft se jaan lab pe aai hai
कोफ़्त से जान लब पे आई है
हमने क्या चोट दिल पे खाई है

दीदनी है शिकस्तगी दिल की
क्या ईमारत ग़मों ने ढाई है

दिल से नजदीक और इतना दूर
किस से उसको कुछ आशनाई है

जिस मर्ज में की जान जाती है
दिलबरो ही की वह जुदाई है

मर्गे मजनू से अक्ल गुल है मीर
क्या दीवाने ने मौत पाई है - मीर तक़ी मीर
मायने
दीदनी=देखने काबिल, शिकस्तगी=टूटना, आशनाई=जान-पहचान, मर्ग=मौत

Roman

koft se jaan lab pe aai hai
hamne kya chot dil pe khai hai

didni hai shikstgi dil ki
kya imarat ghamo ne dhai hai

dil se najdeek aur itna door
kis se usko kuch aashnai hai

jis marz me ki jaan jati hai
dilbaro hi ki wah judai hai

marge majnoo se akal gul hai meer
kya deewan ne mout paai hai - Meer Taqi Meer

Post a Comment Blogger

 
Top