0
हस के बोला करो, बुलाया करो
आप का घर है, आया जाया करो

मुस्कराहट है हुस्न का जेवर
रूप बढ़ता है, मुस्कुराया करो

हद से बढ़ कर हसीन लगते हो
झूठी कसमे जरुर खाया करो

हुक्म करना भी एक सख़ावत है
हमको खिदमत कोई बताया करो

बात करना भी बादशाहत है
बात करना न भूल जाया करो

ताकि दुनिया की दिलकशी न घटे
नित-नए पैरहन में आया करो

कितने सदा मिजाज़ हो तुम अदम
उस गली में बहुत न जाया करो- अब्दुल हमीद अदम
मायने
सख़ावत=दानशीलता, दिलकशी=खूबसूरती, पैरहन=लिबास
Roman
has ke bola karo, bulaya karo
aap ka ghar hai, aya jaya karo

muskurahat hai husn ka jewar
rup badhta hai, muskuraya karo

had se badh kar haseen lagte ho
jhuthi kasme jarur khaya karo

hukm karna bhi ek skhawat hai
hamko khihdmat koi bataya karo

baat karna bhi badshahat hai
baat karna n bhul jaya karo

taki duniya ki dilkashi n ghate
nit-nae pairhan me aaya karo

kitne sada mizaj ho tum adam
us gali me bahut n jaya karo- Abdul Hameed Adam

Post a Comment Blogger

 
Top