0
आँखों से जो दूर थे पहले, दिल से भी अब दूर हुए
वार तेरे तो गर्दिशे-दौरा, जब भी हुए भरपूर हुए

लौट गई यु खुशिया आकार, जैसे देखा कोई ख्वाब
उम्मीदों के शीश-महल क्या, रोज बने और चूर हुए

बहते आसू सबने देखे, दर्द न कोई जान सका
हो के रही गुमनाम हकीकत, अफसाने मशहूर हुए

दिल को तसल्ली देते-देते आखिर उम्र तमाम हुई
रंजो-अलम अब दूर हुए, अब दूर हुए, अब दूर हुए

फितरत ही आजाद हो जिसकी, कैद करे है किसकी मजाल
बहरे-मुहब्बत लाख मुरत्तब आइनों-दस्तूर हुए - नसीम अजमेरी

मायने
गर्दिशे-दौरा=ज़माने के उतार-चढाव, रंजो-अलम=दुख दर्द, फितरत=प्रकृति, बहरे-मुहब्बत=मुहब्बत के लिए, मुरत्तब=संग्रह करना, आइनों-दस्तूर=कानून कायदे

Roman

aankho se jo door the pahle, dil se bhi ab door hue
waar tere t gardishe-dooraan, jab bhi hue bharpoor hue

lout gayi yun khushiyan aakar, jaise dekha koi khwab
ummido ke shish-mahal kya, roj bane aur choor hue

bahte aansu sabne dekhe, dard n koi jaan saka
ho ke rahi gumnam haqikat, afsane mashhoor hue

dil ko taslli dete-dete aakhir umra tamaam hui
ranjo-alam ab door hue, ab door hue, ab door hue

fitrat hi aazad ho jiski, kaid kare hai kiski mazal
bahre-muhbbat laakh murttab aaino-dastoor hue- Naseem Ajmeri
#Jakhira

Post a Comment Blogger

 
Top