0
भरी बरसात में जिस दम बादल घिर के आते है
बुझा कर चाँद के मशाल सियाह परचम उड़ाते है

मकाँ के बमों-दर बिजली की रौ में जब झलकते है
सुबुक बूंदों से दरवाजे के शीशे जब खनकते है

सितारे दफ़न हो जाते है जब आगोशे-जुल्मत में
लपक उठता है एक कोंदा-सा शाइर की फितरत में

कड़क से आख खुल जाती है जब कमसिन हसीनो की
झलक उठती है मौजे-बर्क से अफ़शा जबीनो की - जोश मलीहाबादी
मायने
परचम=झंडा, बामो-दर=खिडकिय और दरवाजे, रौ=बहाव, सुबुक=हल्का, आगोशे-जुल्मत=अँधेरे की गोद में, मौजे-बर्क=बिजली की लहर

Roman

bhari barsat me jis dam badal ghir ke aate hai
bujha kar chand ke mashal siyah parcham udate hai

makaan ke bamo-dar bijli ki rou me jab jhalkate hai
subuk bundo se darwaje ke shishe jab khankate hai

sitare dafan ho jate hai jab aagoshe-julmat me
lapak uthta hai ek konda-sa shayar ki fitrat me

kadak se aankh khul jati hai jab kamsin hasino ki
jhalak uthti hai mouje-barq se afhshaan zabeeno ki - Josh Malihabadi

Post a Comment Blogger

 
Top