0
क्यों दीवानी हुई है मिटटी - बशीर बद्र
क्यों दीवानी हुई है मिटटी - बशीर बद्र

मौजा-ए-गुल के पीछे पढ़कर क्यों दीवानी हुई है मिटटी | ठोकर खाकर खुद आएगा जिसकी जहा लिखी है मिटटी || गलिया घुप है, मैदा चुप है और वो दीवाना ...

Read more »

1
मेरे कमरे में अँधेरा नहीं रहने देता - मुनव्वर राना
मेरे कमरे में अँधेरा नहीं रहने देता - मुनव्वर राना

मेरे कमरे में अँधेरा नहीं रहने देता | आपका ग़म मुझे तन्हा नहीं रहने देता || वो तो अच्छा हुआ शमशीरजनी आती थी | वरना दुश्मन हमें जिन्दा...

Read more »

0
आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक
आह को चाहिए एक उम्र असर होने तक

आह को चाहिए एक उम्र असर होंने तक | कौन जीता है तेरी जुल्फ के सर होने तक || दामे हर मौज में है, हल्का-ए-सदकामे-नहंग | देखे क्या गुजरे है, कतर...

Read more »

0
पीत के रोगी सबकुछ बुझे जाने होते है - इब्ने इंशा
पीत के रोगी सबकुछ बुझे जाने होते है - इब्ने इंशा

पीत के रोगी सबकुछ बुझे जाने होते है, इन लोगो के ईट न मारो, कहाँ दीवाने होते है | आहे इनकी उमड़ते बादल आंसू इनके अब्रे-मतीर, दश्त में ...

Read more »

0
मोर बनकर नाचता है - परवीन शाकिर
मोर बनकर नाचता है - परवीन शाकिर

खुली आँखों में सपना झाकता है, वो सोया है की कुछ कुछ जागता है | तेरी चाहत के भीगे जंगलो में, मेरा तन मोर बनकर नाचता है | मुझे हर कैफियत म...

Read more »

3
ग़ालिब के लतीफे - 2
ग़ालिब के लतीफे - 2

1. एक बार दिल्ली में रात गए ग़ालिब किसी मुशायरे से सहारनपुर से आए हुए मौलाना फैज़ के साथ वापस आ रहे थे | रस्ते में एक तंग गली से गुजार रहे थे...

Read more »

2
खिंजा तो फूलने-फलने के बाद आती है - मुनव्वर राना
खिंजा तो फूलने-फलने के बाद आती है - मुनव्वर राना

कई घरो को निगलने के बाद आती है  मदद भी शहर के जलने के बाद आती है न जाने कैसी महक आ रही है बस्ती से वही जो दूध उबलने के बाद आती है...

Read more »

2
ग़ालिब के लतीफे - 1
ग़ालिब के लतीफे - 1

मिर्ज़ा ग़ालिब के कुछ लतीफे आपके लिए पेश है 1 . एक रोज़ मिर्ज़ा ग़ालिब के दोस्त हाकिम राजी साहब, जिनको आम पसंद थे, उनके घर आए | दोनों दोस्त बरा...

Read more »

0
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है
दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है

Read more »

0
न था कुछ तो खुदा था
न था कुछ तो खुदा था

N tha kuch to khuda tha, kuch n hota to khuda hota. N tha kuch to khuda tha, kuch n hota to khuda hota Duboya mujhko hone ne, n mai hota to ...

Read more »
 
 
Top