0
हाथ छूटे भी तो रिश्ते नहीं छोड़ा करते
वक़्त की शाख़ से लम्हें नहीं तोड़ा करते

जिस की आवाज़ में सिलवट हो निगाहों में शिकन
ऐसी तस्वीर के टुकड़े नहीं जोड़ा करते

शहद जीने का मिला करता है थोड़ा थोड़ा
जाने वालों के लिये दिल नहीं थोड़ा करते

लग के साहिल से जो बहता है उसे बहने दो
ऐसे दरिया का कभी रुख़ नहीं मोड़ा करते-गुलज़ार

Roman

Haath Chhute Bhi To Rishtey Nahi Chhoda Karte
Waqt ki shakh se lamhe nahi toda karte

jis ki aawaz me silwat ho nigaho me shikan
aisi tasweer ke tukde nahi joda karte

shahd jeene ka mila karta hai thoda-thoda
jane walo ke liye dil nahi thoda karte

lag ke sahil se jp bahta hai use bahne do
aise dariya ka kabhi rukh nahi moda karte - Gulzar

Listen It

Post a Comment Blogger

 
Top