0
अब जुनूँ कब किसी के बस में है
उसकी ख़ुशबू नफ़स-नफ़स में है

हाल उस सैद का सुनाईए क्या
जिसका सैयाद ख़ुद क़फ़स में है

क्या है गर ज़िन्दगी का बस न चला
ज़िन्दगी कब किसी के बस में है

ग़ैर से रहियो तू ज़रा होशियार
वो तेरे जिस्म की हवस में है

बाशिकस्ता बड़ा हुआ हूँ मगर
दिल किसी नग़्मा-ए-जरस में है

'जॉन' हम सबकी दस्त-रस में है
वो भला किसकी दस्त-रस में है - जॉन एलिया

Roman

Ab Junoon Kab Kisi K Bas Mein Hai
uski khushboo nafas-nafas me hai

haal us said ka sunaiye kya
jika saiyyad khud kafas mai hai

kya hai gar zindgi ka bas n chala
zindgi kab kisi ke bas me hai

gair se rahiyo tu jara hoshiyaar
wo tere jism ki hawas me hai

"Jaun" ham sabki dast-ras me hai
wo bhala kisis dast-ras me hai - Jaun Elia ( Jon Elia)

Post a Comment

 
Top