0
मेरी आँखों में ग़म की निशानी नहीं
पत्थरों के प्यालो में पानी नहीं

मै तुझे भूल कर भी नहीं भूलता
प्यार सोना है सोने का पानी नहीं

मेरी अपनी भी मजबुरिया है बहुत
मै समुन्दर हू पीने का पानी नहीं

शाम के बाद बच्चो से कैसे मिलू
अब मेरे पास कोई कहानी नहीं

कोई आसेब है इस हसी शहर पर
शाम रोशन है लेकिन सुहानी नहीं - बशीर बद्र
मायने
आसेब = प्रेतबाधा

Roman

meri aankho me gham ki nishani nahi
pattharo ke pyalo me paani nahi

mai tujhe bhul kar bhio nahi bhulta
pyar sona hai sone ka pani nahi

meri apni bhi majburiya hai bahut
mai samundar hu peene ka pani nahi

sham ke baad bachcho se kaise milu
ab mere paas koi kahani nahi

koi aaseb hai is hasi shahar par
sham roshan hai lekin suhani nahi - Bashir Badr

Post a Comment Blogger

 
Top