0
कहा आंसुओ की यह सौगात होगी
नए लोग होंगे नई बात होगी

मै हर हाल में मुस्कुराता रहूँगा
तुम्हारी मोहब्बत अगर साथ होगी

चरागों को आँखों में महफूज रखना
बड़ी दूर तक रात ही रात होगी

मुसाफिर है हम भी मुसाफिर हो तुम भी
किसी मोड़ पे फिर मुलाकात होगी- बशीर बद्र

Roman

kahan aasuno ki yah saugat hogi
naye log honge nai baat hogi

mai har haal me muskurata rahunga
tumhari mohbbat agar sath hogi

charago ko aankho me mahfooz rakhna
badi door tak raat hi raat hogi

musafir hai hum bhi musafir ho tum bhi
kisi mod pe fir mulakat hogi - Bashir Badr

Post a Comment Blogger

 
Top