0
हम तो बचपन में भी अकेले थे
सिर्फ दिल की गली में खेले थे

एक तरफ मोर्चे थे पलकों के
एक तरफ आंसुओ के रेले थे

थी सजी हसरते दुकानों पर
जिन्दगी के अजीब मेले थे

आज जेहन-ओ-दिल भूखो मरते है
उन दिनों फाके भी हमने झेले थे

ख़ुदकुशी क्या गमो का हल बनती
मौत के अपने भी सौ झमेले थे- जावेद अख्तर

Roman

Ham to bachpan me bhi akele the
Sirf dil ki gali me khele the

ek taraf morche the palko ke
ek taraf aansuo ke rele the

thi saji hasrate dukano par
zindgi ke azeeb mele the

aaj jehan-o-dil bhukho marte hai
un dino faake bhi hamne jhele the

khudkushi kya gamo ka hal banti hai
mout ke apno bhi sou jhamele the - Javed Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top