0
ये काफिले यादो के कही खो गए होते
इक पल भी अगर भूल से हम सो गए होते

ऐ शहर तीर नामो-निशा भी नहीं होता
जो हादसे होने थे अगर हो गए होते

हर बार पलटते हुए घर को यही सोचा
ऐ काश किसी लम्बे सफ़र को गए होते

हम खुश है हमें धुप विरासत में मिली है
अजदाद कही पेड़ भी कुछ बो गए होते

किस मुह से कहे तुझसे समन्दर के है हकदार
सैराब सराबो से भी हम हो गए होते - शहरयार

Roman

ye kafile yaado ke kahi kho gaye hote
ik pal bhi agar bhool se hum so gaye hote

ae shahar teer namo-nishan bhi nahi hota
jo hadse hone the agar ho gaye hote

har baar paltate hue ghar ko yahi socha
ae kash kisi lambe safar ko gaye hote

hum khush hai hame dhoop virasat me mili hai
azdad kahi ped bhi kuch bo gaye hote

kis muh se kahe tujhse samndar ke hai haqdar
sairab sarabo se bhi hum ho gaye hote- Shaharyar

Post a Comment Blogger

 
Top