0
ये जो है हुक्म, मेरे पास न आए कोई,
इसलिए रूठ रहे है की मनाए कोई

ये न पूछो की गम-ऐ-हिज्र में कैसी गुजरी
दिल दिखने को हो तो दिखाए कोई

हो चूका ऐश का जलसा, तो मुझे ख़त पंहुचा
आपकी तरफ से मेहमान बुलाए कोई

क्यों वो मय दाखिले-दावत ही नहीं वाइज
महरबानी से बुला कर जो पिलाये कोई

आपने दाग को मुह भी न लगाया, अफ़सोस
उसको लगता था, कलेजे से लगाये कोई- दाग देहलवी

Roman

ye jo huqm hai, mere paas n aaye koi
isliye ruth rahe hai ki manaye koi

ye n pucho ki gham-e-hijr me kaisi gujri
dil dikhne ko ho to dikhaye koi

ho chuka aish ka jalsa, to mujhe khat pahucha
aapki yaraf se mehman bulaye koi

kyo wi may dakhile-dawat hi nahi waaiz
maharbani se bula kar jo pilaye koi

aapne daag ko muh bhi n lagaya, afsos
usko lagta tha, kaleje se lagaye koi - Daag Dehlavi

Post a Comment Blogger

 
Top