0
Taken By Devendra Gehlod At Ratnagiri
वो ढल रहा है तो ये भी रंगत बदल रही है
जमीं सूरज कि उंगलियों से फिसल रही है

जो मुझको जिन्दा जला रहे है वो बेखबर है
कि मेरी जंजीर धीरे-धीरे पिघल रही है

मै क़त्ल तो हो गया तुम्हारी गली में लेकिन
मेरे लहू से तुम्हारी दिवार गल रही है

न जलने पाते थे जिसके चूल्हे भी हर सवेरे
सुना है कल रात से वो बस्ती भी जल रही है

कभी तो इन्सान जिन्दगी कि करेगा इज्ज़त
ये एक उम्मीद आज भी दिल में पल रही है - जावेद अख्तर

Roman

wo dhal raha hai to ye rangat bhi badal rahi hai
zameen suraj ki ungliyo se fisal rahi hai

jo mujhko zinda jala rahe hai wo bekhabar hai
ki meri zanzeer dheere-dheere pighal rahi hai

mai qatl to ho gya tumhari gali me lekin
mere lahu se tumhari deewar gal rahi hai

n jalne pate the jiske chulhe bhi har sawere
suna hai kal raat se wo basti bhi jal rahi hai

kabhi to insaan zindgi ki karega ijjat
ye ek ummid aaj bhi dil me pal rahi hai - Javed Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top