0
तुम चली जाओगी, परछाईया रह जायेगी
कुछ न कुछ हुस्न कि रानाइया रह जायेगी

तुम तो इस झील के साहिल पे मिली हो
मुझ से जब भी देखूंगा यही मुझ को नजर आओगी

याद मिटती है न मंजर कोई मिट सकता है
दूर जाकर भी तुम अपने को यही पाओगी

खुल के रह जायेगी झोको में बदन कि खुशबू
जुल्फ का अक्स घटाओ में रहेगा सदियों

फूल चुपके से चुरा लेंगे लबो कि सुर्खी
यह जवान हुस्न फिजाओ में रहेगा सदियों

इस धडकती हुई शादाब-ओ-हसी वादी में
यह न समझो कि ज़रा देर का किस्सा हो तुम

अब हमेशा के लिए मेरे मुक्कद्दर कि तरह
इन नजरो के मुक्कद्दर का भी हिस्सा हो तुम

तुम चली जाओगी, परछाईया रह जायेगी
कुछ न कुछ हुस्न कि रानाइया रह जायेगी - साहिर लुधियानवी

Roman

Tum chali jaogi, parchaiya rah jayegi
kuch n kuch husn ki ranaiya rah jayegi

tum to is jhil ke sahil pe mili ho
mujh se jab bhi dekhuga yahi mujh ko nazar aaogi

yaad mitti hai n manzar koi mit sakta hai
door jakar bhi tum apne ko yahi paaogi

khul ke rah jayegi jhoko me badan ki khushbu
zulf ka aks ghatao me rahega sadiyo

phool chupke se chura lenge labo ki surkhi
yah jawan husn fizao me rahega sadiyo

is dhadkati hui shadab-o-hasi waadi me
yah n samjho ki jara der ka kissa ho tum

ab hamesha ke liye mere mukddar ki tarah
is najaro ke mukddar ka bhi hissa ho tum

tum chali haogi, parchaiya rah jayegi
kuch n kuch husn ki ranaiya rah jayegi - Sahir Ludhiyanvi

Post a Comment Blogger

 
Top