0
सभी को गम है समुन्दर के खुश्क होने का
कि खेल ख़त्म हुआ किश्तिया डुबोने का

बढ़ाना जिस्म बगुलों का क़त्ल होता रहा
ख्याल भी नहीं आया किसी को रोने का

सिला कोई नहीं  परछाईयो कि पूजा का
मुआल कुछ नहीं ख्वाबो कि फसल बोने का

बिछड़ के तुझ से मझे यह गुमान होता है
कि मेरी आँखे है पत्थर कि, जिस्म सोने का

हुजूम देखता हु जब, तो काप उठता हु
अगरचे खोफ नहीं अब किसी को खोने का  - शहरयार

Roman

sabhi ko gam hai samundar ke khushk hone ka
ki khel khatm hua kishtiya dubone ka

badhana jism bagulo ka katl raha
khyal bhi nahi aaya kisi ko rone ka

sila koi nahi parchhaiyo ki pooja ka
muaal kuch nahi khawabo ki fasal bone ka

bichad ke tujh se mujhe yah guman hota hai
ki meri aankhe hai patthar ki, jism sone ka

hujum dekhta hu jab, to kaap uthta hu
agrache khouf nahi ab kisi ko khone ka- Shaharyaar

Post a Comment Blogger

 
Top