0
ख्वाब के गाँव में पले है हम
पानी चलनी में ले चले है हम
छाछ फुके कि अपने बचपन में 
दूध से किस तरह जले है हम
खुद है अपने सफ़र कि दुश्वारी 
अपने पैरो के आबले है हम
तू तो मत कह हमें बुरा दुनिया
तुने ढाला है और ढले है हम
क्यों है कब तक है किसकी खातिर है
बड़े संजीदा मसले है हम   - जावेद अख्तर

Roman

khawab ke gaavn me pale hai ham
pani chalni me le chale hai ham

chhach fuke ki apne bachpan me
dudh se kis tarah jale hai ham

khud hai apne safar ki duhswaru
apne pairo ke aable hai ham

tu to mat kah hame bura duniya
tune dhala hai aur dhale hai ham

kyo hai kab tak hai kiski khatir hai
bade sanjida masle hai ham - Javed Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top