0
कटेगा देखिये दिन जाने किस अजब के साथ
की आज धुप नहीं निकली आफ़ताब के साथ

तो फिर बताओ समुन्दर सदा को क्यों सुनते
हमारी प्यास का रिश्ता था जब शराब के साथ

बड़ी अजीब महक साथ ले के आई है
नसीम रात बसर की किसी गुलाब के साथ

फिजा में दूर तक मरहबा के नारे है
गुजरने वाले है कुछ लोग यहा से ख्वाब के साथ

जमीन तेरी कशिश खिचती रही हमको
गए जरूर थे कुछ दूर माहताब के साथ- शहरयार
मायने
सराब = मिराज

Roman

katega dekhiye din jane kis ajab ke sath
ki aaj dhoop nahi nikli aaftab ke sath

to phir batao samundar sada ko kyo sunte
hamari pyas ka rishta jab sharab ke sath

badi ajeeb mahak sath le ke aai hai
naseem rat basar ki kisi gulab ke sath

fiza me door tak marhaba ke naare hai
gujrane wale hai kuch log yaha ke khwab ke sath

zameen teri kashish khichti rahi hamko
gaye jarur the kuch door mahtab ke sath - Shaharyar

Post a Comment Blogger

 
Top