0
जो चाहती है दुनिया वो मुझसे नहीं होगा
समझौता कोई ख्वाब के बदले नहीं होगा

अब रात कि दिवार को ढाना है जरुरी
ये काम मगर मुझसे अकेले नहीं होगा

खुशफहमी अभी तक थी यही कारे-जुनू मे
जो मै नहीं कर पाया किसी से नहीं होगा

तदबीर नयी सोच कोई ऐ दिले-सादा
माइल-ब-करम तुझपे वो ऐसे नहीं होगा

बेनाम से इक खौफ से दिल क्यों है परेशा
जब तय है कि कुछ वक़्त से पहले नहीं होगा - शहरयार
मायने
कारे-जुनू=उन्माद, तदबीर=उपाय, माइल-ब-करम=कृपालु

Roman

jo chahti hai duniya wo mujhse nahi hoga
samjhota koi khwab ke badle nahi hoga

ab raat ki deewar ko dhana hai jaruri
ye kaam magar mujhse akele nahi hoga

khushfahmi abhi tak thi yahi kare-junun me
jo mai nahi kar paya kisi se nahi hoga

tadbeer nayi soch koi ae dil-e-sada
maail-b-karam tujhpe wo aise nahi hoga

benam se ik khouf se dil kyo hai pareshaan
jab tay hai ki kuch waqt se pahle nahi hoga - Shaharyar

Post a Comment Blogger

 
Top