1
जब चाहा इकरार किया, जब चाहा इनकार किया
देखो, हमने खुद ही से, कैसा अनोखा प्यार किया

ऐसा अनोखा, ऐसा तीखा, जिसको कोई सह न सके
हम समझे पत्ती-पत्ती को हमने सरशार किया

रूप अनोखे मेरे है और रूप ये तुने देखे है
मैंने चाहा, कर भी दिखाया, जंगल को गुलजार किया

दर्द तो होता रहता है, दर्द के दिन ही प्यारे है
जैसे तेज छुरी को हमने रह-रहकर फिर धार किया

काले चेहरे, कली खुशबू, सबको हमने देखा है
अपनी आँखों से इन सबको, शर्मिंदा हर बार किया

रोते दिल हँसते चेहरों को कोई भी न देख सका
आंसू पी लेने का वादा, हां सबने हर बार किया

कहने जैसी बात नहीं है, बात तो बिलकुल सादा है
दिल ही पर कुर्बान हुए, और दिल ही को बीमार किया

शीशे टूटे या दिल टूटे खुश्क लबो पर मौत लिए
जो कोई भी कर न सका वह हमने आख़िरकार किया

"नाज़" तेरे जख्मी हाथो ने जो भी किया अच्छा ही किया
तुने सब कि मांग सजी, हर इक का सिंगार  किया- मीना कुमारी नाज़ 

Roman

jab chaha ikrar kiya, jab chaha inkar kiya
dekho hamne khud hi se, kaisa anokha pyar kiya

aisa anokha, aisa teekha, jisko koi sah n sake
ham samjhe patti-patti ko hamne sarshar kiya

roop anokhe mere hai aur roop ye tune dekhe hai
maine chaha, kar bhi dikhaya, jangal ko gulzar kiya

dard to hota rahta hai, dard ke din hi pyare hai
jaise tej chhuri ko hamne rah-rahkar fir dhaar kiya

kaale chehre, kali khushbu, sabko hamne dekha hai
apni aankho se in sabko, sharminda har baar kiya

rote dil haste chehro ko koi bhi n dekh saka
aansu po lene ka wada, haa sabne har baar kiya

kahne jaisi baat nahi hai, baat to bilkul saada hai
dil hi par kurbaan hue, aur dil hi ko beemar kiya

shishe tute ya dil tute khushk labo par mout liye
jo koi bhi kar n saka wah hamne aakhirkar kiya

"Naaz" tere jakhmi haatho ne jo bhi kiya achcha hi kiya
tune sab ki maang sajai, har ek ka singaar kiya - Meena Kumar Naaz

मायने-
सरशार=उन्मत
आपको बता दे मीना कुमारी जी "नाज" तखल्लुस से लिखती थी 

Post a Comment Blogger

  1. कविता की ज्यादा समझ तो नहीं है फिर भी अच्छी लगी .....

    एक बार इसे भी पढ़े , शायद पसंद आये --
    (क्या इंसान सिर्फ भविष्य के लिए जी रहा है ?????)
    http://oshotheone.blogspot.com

    ReplyDelete

 
Top