0
जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है
माँ दुआ करती हुई ख्वाब में आ जाती है

ये ऐसा कर्ज है की जो में अदा कर ही नहीं सकता
में जब तक घर न लौटू मेरी माँ सजदे में रहती है

ऐ अँधेरे देख ले, मुह तेरा काला हो गया
माँ ने आखे खोल दी, घर में उजाला हो गया

अभी जिन्दा है माँ मेरी, मुझे कुछ भी नहीं होगा,
में घर से जब निकलता हु, दुआ भी साथ चलती है

मुनव्वर माँ के आगे यु कभी खुलकर नहीं रोना,
जहा बुनियाद हो,इतनी नमी अच्छी नहीं होती - मुनव्वर राना

Roman

jab bhi kashti meri sailab me aa jati hai
maa duaa karti hui khwab me aa jati hai

ye aisa karj hai ki jo mai ada kar hi nahi sakta
mai jab tak ghar n loutu, meri maa sajde me rahti hai

ae andhere dekh le, muh tera kala ho gaya
maa ne aakhe khol di, ghar me ujala ho gya

abhi jinda hai maa meri, mujhe kuch nahi hoga,
mai ghar se jab niklata hu, duaa bhi saath chalti hai

munwwar maa ke aage yu kabhi khulkar nahi rona,
jaha buniyad ho, itni nami achchi nahi hoti- Munwwar Rana

Post a Comment Blogger

 
Top