0
इन्सान में हैवान यहाँ भी है वहा भी
अल्लाह निगहबान यहाँ भी है वहा भी

खूखार दरिंदो के फकत नाम अलग है
शहरो में बयाबान यहाँ भी है वहा भी

रहमत कि कुदरत हो या भगवान कि मूरत
हर खेल का मैदान यहाँ भी है वहा भी

हिन्दू भी मजे में है, मुसलमा भी मजे में
इन्सान परेशां यहाँ भी है वहा भी - निदा फाजली

Roman

insan me haiwan yaha bhi hai waha bhi
allah nigahbaan yaha bhi hai waha bhi

khukhar darindi ke fakat naam alag hai
shahro me bayabaan yaha bhi hai waha bhi

rahmat ki kudrat ho ya bhgwan ki murat
har khel ka maidan yaha bhi ha waha bhi

hindu bhi maje me hai, musalmaan bhi maje
insaan pareshaan yaha bhi hai waha bhi - Nida Fazli

Post a Comment Blogger

 
Top