0
हिज्र की लम्बी रात का खौफ निकल जाये
आँखों पर फिर नींद का जादू चल जाये

बड़ी भयानक साअत आने वाली है
आओ जतां कर देखे शायद टल जाये

मै फिर कागज कि किश्ती पर आता हु
दरिया से कहला दो ज़रा संभल जाये

या मै सोचु कुछ भी न उसके बारे में
या ऐसा हो दुनिया और बदल जाये

जितनी प्यास है उससे ज्यादा पानी हो
मुमकिन है ऐ काश ये खतरा टल जाये - शहरयार
मायने
साअत=घडी

Roman

hizr ki lambi raat ka khouf nikal jaye
aankho par phir nind ka jadu chal jaye

badi bhayanak saat aane wali hai
aao jata kar dekhe shayad tal jaye

mai phir kagaz ki kashti par aata hu
dariya se kahla do zara sambhal jaye

ya mai sochu kuch bhi n uske bare me
ya aisa ho duniya aur badal jaye

jitni pyas hai usse jyada paani ho
mumkin hai ae kash ye khatra tal jaye - Shaharyar

Post a Comment Blogger

 
Top