0
हमारे शौक कि ये इंतहा थी
कदम रक्खा कि मंजिल रास्ता थी

कभी जो ख्वाब था, वो पा लिया है
मगर जो खो गई, वो चीज़ क्या थी

मोह्हबत मर गई मुझको भी गम है
मिरे अच्छे दिनों कि आशना थी

जिसे छु लू मै, वो हो जाए सोना
तुझे देखा तो जाना बददुआ थी

मरीजे-ख्वाब को तो अब शिफा है
मगर दुनिया बड़ी कडवी दवा थी- जावेद अख्तर جاوید اختر

Roman

hamare shouq ki yah inteha thi
kadam rakhkha ki manjil rasta thi

kabhi jo khwab tha, wo pa liya hai
magar jo cheez kho gai, wo cheej kya thi

mohbbat mar gayi mujhko bhi gam hai
mire achche dino ki aashna thi

jise chhu lu mai, wo ho jaye sona
tujhe dekha to jana baddua thi

maije khwab ko to ab shifa hai
magar duniya badi kadwi dawa thi - Javed Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top