0
गम होते है तो जहानत होती है
दुनिया में हर शय की कीमत होती है

अक्सर वो कहते है वो बस मेरे है
अक्सर क्यों कहते है हैरत होती है

तब हम दोनों वक्त चुराकर लेते थे
अब मिलते है जब भी फुर्सत होती है

अपनी महबूबा में अपनी माँ देखे
बिन माँ के लडको की फितरत होती है

एक कश्ती में एक कदम ही रखते है
कुछ लोगो कि ऐसी आदत होती है- जावेद अख्तर جاوید اختر

Roman

gham hote hai to jahanat hoti hai
duniya me har shay ki keemat hoti hai

aksar wo kahte hai wo bas mere hai
aksar kyyo kahte hai hairat hoti hai

tab ham dono waqt churakar lete the
ab milate hai jab bhi fursat hoti hai

apni mahbuba me apni maa dekhe
bin maa ke ladko ki fitrat hoti hai

ek kashti me ek kadam hi rakhte hai
kuch logo ki aisi aadat hoti hai - Javed Akhtar

Post a Comment Blogger

 
Top