0
ऐ मुसाफिरे-तन्हा, शाम होने वाली है
जल्द लौट के घर जा, शाम होने वाली है

बैठने लगे आकर क्या परिंदे शाखों पर
देख रक्स पेड़ो का, शाम होने वाली है

आज पाँव के नीचे कोई शय ज़मी सी है
आज क्या गजब होगा, शाम होने वाली है

रेत के समुन्दर में एक नाव कागज की
कैसे सच हुआ सपना, शाम होने वाली है

धुंध के दरीचे भी बंद होने वाले है
भूल जा की क्या देखा, शाम होने वाली है - शहरयार खान

Roman
ae musafir tanha, shaam hone wali hai
jald lout ke ghar ja, shaam hone wali hai

baithne lage aakar kya parinde shaakho par
dekh raks pedo ka, shaam hone wali hai

aaj paanv ke niche koi shay jami si hai
aaj kya ghazab hoga, shaam hone wali hai

ret ke samundar me ek naav kaagaj ki
kaise sach hua sapna, shaam hone wali hai

dhundh ke dariche bhi band hone wale hai
bhul jaa ki kya dekha, shaam hone wali hai - Shaharyaar Khaan

Post a Comment Blogger

 
Top