0
दोस्त बनकर भी नहीं साथ निभानेवाला
वही अंदाज है जालिम का जमानेवाला

तेरे होते हुए आ जाती थी सारी दुनिया
आज तनहा हु तो कोई नहीं आने वाला

मुन्तजिर किस का हु टूटी हुए दहलीज पे मै
कौन आएगा यहाँ कौन है आनेवाला

मैंने देखा है बहारो में चमन को जलते
है कोई ख्वाब की ताबीर बतानेवाला

तुम तकल्लुफ़ को भी इखलास समझते हो फराज
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला - अहमद फराज

Roman

Dost bankar bhi nahi sath nibhanewala
wahi andaj hai jalim ka jamanewala

tere hote hue aa jati thi sari duniya
aaj tanha hu to koi nahi aane wala

muntjeer kis ka hu tuti hui dahleej pe mai
koun aayega yaha koun hai aane wala

maine dekha hai baharo me chaman ko jalate
hai koi khwab ki tabeer batanewala

tum taklluf ko bhi ikhlas samjhate ho faraz
dost hota nahi har haath milane wala- Ahmad Faraz

Post a Comment Blogger

 
Top