0
धुप हु, साया-ए-दीदार से डर जाता हु
तुझसे मिलता हु तो कुछ और बिखर जाता हु

सहिलो पर मुझे आवाज न देना कोई
आग जिस सिम्त लगी हो मै उधर जाता हु

तू नहीं है तो ख्यालो के अजब मौसम है
जाने किस सोच में चलता हु ठहर जाता हु

आसमा-रंग समुन्दर है तआकुब में मेरे
प्यास लगती है तो सहरा में उतर जाता हु

रूह जलती है बहुत जिस्म पिघलता है बहुत
और मै शहर के जंगल से गुजर जाता हु

किसकी आँखों ने मेरे अक्स पहन रखे है
खुद से मिलना हो तो उस शख्स के घर जाता हु- जाजिब कुरैशी

Roman

Dhoop hu, sayae-deedar se dar jata hu
tujhse milta hu to kuch aur bikhar jata hu

sahilo par mujhe awaj n dena koi
aag jis simt lagi ho mai udhar jata hu

tu nahi hai to khayalo ke ajab mousam hai
jane kis soch me chalta hu thahar jata hu

aasama-rang samundar hai taakub me mere
pyas lagti hai to sahra me utar jata hu

ruh jalati hai bahut jism pighlata hai bahut
aur mai shahar ke jangal se gujar jata hu

kiski aankho ne mere aks pahan rakhe hai
khud se milna ho to us shakhs ke ghar jata hu - Jazib Qureshi

Post a Comment Blogger

 
Top