0
पुराने शहर के मंजर निकलने लगते है
ज़मी जहा भी खुले, घर निकलने लगते है

मैं खोलता हूँ सदफ मोतियों के चक्कर में
मगर यहाँ भी समन्दर निकलने लगते है

हसीन लगते है जाडो में सुबह के मंजर
सितारे धूप पहन कर जब निकलने लगते हैं

बुरे दिनो से बचाना मुझे मेरे मौला
करीबी दोस्त भी बचकर निकलने लगते हैं

बुलन्दियो का तसव्वुर भी खुब होता हैं
कभी-कभी तो मेरे पर निकलने लगते हैं

अगर ख्याल भी आए कि तुझको खत लिखू
तो घोसले से कबूतर निकलने लगते हैं। - राहत इन्दोरी

Roman

purane shahar ke manzar niklane lagte hai
zameen jaha bhi khule, ghar niklane lagte hai

mai kholta hu sadaf motiyo ke chakkar me
magar yahaa bhi samnadar niklane lagte hai

haseen lagte hai jaado me subah ke manjar
sitare dhup pahan kar jab niklane lagte hai

bure dino se bachana mujhe mere moula
karibi dost bhi bachkar niklane lagte hai

bulndiyo ka taswwur bhi khub hota hai
kabhi-kabhi to mere par niklane lagte hai

agar khyal bhi aaye ki tujhko khat likhu
to ghoslo se kabutar niklane lagte hai - Rahat Indori

Post a Comment Blogger

 
Top