0
नाकामियो के बाद भी हिम्मत वही रही,
ऊपर का दूध पीकर के भी ताकत वही रही

शायद ये नेकिया है हमारी की हर जगह,
दस्तर के बगेर भी इज्जत वही रही

में सर झुका के शहर में चलने लगा मगर,
मेरे मुखालेफिन में दहशत वही रही

कदमो पे ला के डाल दी सब नैमते मगर,
सौतेली माँ को बच्चो से नफरत वही रही

खाने की चीजे माँ ने भेजी है गाँव से,
बासी भी हो गयी है तो लज्ज़त वही रही-मुनव्वर राना

मायने
दस्तर=पगड़ी, मुखालेफिन =विरोधी
Roman

Nakamiyo ke baad bhi himmat wahi rahi
upar ka dudh peekar ke bhi takat wahi rahi

shayad ye nekiya hai hamari ki har jagah
dastar ke bager bhi ijjat wahi rahi

mai sar jhuka ke shahar me chalne laga magar
mere mukhalefin me dahshat wahi rahi

kadmo pe la ke daal di sab naimte magar
souteli maa ko bachcho se nafrat wahi rahi

khane ki cheeje maa ne bheji hai gaaon se
basi bhi ho gayi hai to ljjat wahi rahi - Munwwar Rana

Post a Comment Blogger

 
Top