0
अब अपनी रूह के छालो का कुछ हिसाब करू
मैं चाहता था चिरागों को आफ़ताब करू

बुतों से मुझको इज़ाज़त अगर कभी मिल जाए
तो शहर भर के खुदाओ को बेनकाब करू

मै करवटों के नए जायके लिखू शब् भर
ये इश्क है तो कहा जिंदगी अजाब करू

है मेरे चारों तरफ भीड़ गूंगे बहरो की
किसे खातिब बनाऊ किसे ख़िताब करू

ये जिंदगी मुझे कर्जदार समझती रही
कही अकेले में मिल जाए तो हिसाब करू

उस आदमी को बस एक धुन सवार रहती है
बहुत हसीं है दुनिया इसे कैसे ख़राब करू  -राहत इन्दोरी

Roman

Ab apni rooh ke chhalo ka kuch hisaab karu
mai chahta tha chirago ko aaftab karu

buto se mujhko izazat agar kabhi mil jaye
to shahar bhar ke khudao ko benqab karu

mai karwato ke naye jayke likhu shab bhar
ye ishq hai to kaha zindgi azab karu

hai mere charo taraf bhid gunge bahro ki
kise khatib karu kise khitab karu

ye zindgi mujhe karjdar samjhati rahi
kahi akele me mil jaye to hisaab karu

us aadmi ko bas ek dhoon sawar rahti hai
bahut hasi hai duniya ise kaise kharab karu - Rahat Indori

Post a Comment Blogger

 
Top