0
ये कुचे, ये गलिया - साहिर लुधियानवी
ये कुचे, ये गलिया - साहिर लुधियानवी

ये कुचे, ये नीलमघर दिलकशी के, ये लुटते हुए करवा जिन्दगी के, कहा है, कहा है मुहाफ़िज़ खुदी के सना ख्वाने तक्दिसे मशरिक कहा है ??? ये प...

Read more »

0
टुकड़े-टुकड़े दिन बिता, धज्जी-धज्जी रात मिली  - मीना कुमारी
टुकड़े-टुकड़े दिन बिता, धज्जी-धज्जी रात मिली - मीना कुमारी

टुकड़े-टुकड़े दिन बिता, धज्जी-धज्जी रात मिली जिसका जितना आचल था, उतनी ही सौगात मिली रिमझिम-रिमझि...

Read more »

0
रिहाई मांगता है और, रिहा होने से डरता है  -  राजेश रेड्डी
रिहाई मांगता है और, रिहा होने से डरता है - राजेश रेड्डी

यहाँ हर शख्स हर पल , हादसा होने से डरता है खिलौना है जो मिटटी का फ़ना होने से डरता है मेरे दिल ...

Read more »
 
 
Top